संवित पात्रा ने ब्राह्मणों के तिलक का उड़ाया मजाक, त्यागी की मौत से ब्राह्मणों में गुस्सा, पात्रा की गिरफ्तारी की मांग

भोपाल। भाजपा प्रवक्ता एवं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चहेते संबित पात्रा ने टीवी डिबेट में कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी को जयचंद कहा, उनके माथे पर लगे टीके का मजाक उड़ाया। डिबेट में हुई तीखी बहस के कुछ घंटे बाद कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी की हार्ट अटैक से मौत हो गई। कांग्रेस के तेज तर्रार प्रवक्ता की मौत की खबर के बाद सोशल मीडिया पर संवित पात्रा को धिक्कारा जाने लगा, जिन्होंने बहस में राजीव त्यागी के माथे पर लगे तिलक की खिल्ली उड़ाई थी, उनके लिए अपशब्द कहे थे, जिससे उन्हें गहरा सदमा लगा और उनकी मौत हो गई। संवित पात्रा द्वारा कहे गए शब्दों को लेकर ब्राह्मणों में गुस्सा है और वे इसे समूचे ब्राह्मणों का अपमान बताते हैं। कई ब्राह्मण संगठन, ब्राह्मणों के अपमान एवं राजीव त्यागी की मौत के लिए देशभर में संवित पात्रा के खिलाफ एफआईआर कराने पर विचार कर रहे हैं। नरसिंहपुर के नरेंद्र अवस्थी, विदिशा के अजय कटारे, मुरैना के श्रीकांत शर्मा सहित बड़ी संख्या में ब्राह्मणों ने सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रियाएं दी हैं। सोशल मीडिया में राजिव त्यागी जी के निधन पर संबित पात्रा की गिरफ्तारी की मांग उठायी जा रही है। साथ ही न्यूज़ चैनल जो अक्सर टीआरपी के लिए ऐसे आक्रामक डिबेट कराते है उनकी भी सोशल मीडिया में जमकर आलोचना हो रही है।

राजीव त्यागी जी के आकस्मिक निधन से कांग्रेसियो और देश में उनके चाहने वालो में शोक की लहर है। राजीव त्यागी जी आज शाम 5 बजे ही आजतक न्यूज़ चैनल में बतौर प्रवक्ता शामिल हुए थे। जहा बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा से उनकी लम्बी नोकझोक भी हुयी थी। संबित पात्रा ने राजीव त्यागी पर व्यक्तिगत हमले किये तथा उन्हें जयचंद तक कहा। संबित पात्रा के तेवर हमलावर थे और बार बार उन्होंने राजीव त्यागी पर व्यक्तिगत कटाक्ष किए, उनके माथे पर लगे तिलक का मजाक उड़ाया।

आज तक में यह डिबेट शाम 5 बजे शुरू हुयी थी। जिसमे संबित पात्रा, और राजीव त्यागी बतौर प्रवक्ता शामिल हुए थे। कई बार मुद्दों से हटकर भी जानबूझकर ऐसे विषयो पर है जिनके न हाथ होते है न पैर, विशेष धर्म वालो को टीवी चैनल में टारगेट किया जाता है, जिस कारण देश में हिंसा और घृणा का वातावरण बनता है। संबित पात्रा हर समय ही न्यूज़ चैनल की टीआरपी बढ़ाने का स्त्रोत रहे है। वे अक्सर मुद्दों पर कम बोलते हैं, विपक्षी पार्टियों के नेताओं पर व्यक्तिगत हमले अधिक करते हैं। मुद्दों पर बात करने पर भी वह उसे अक्सर मोड़ते हुए नजर आते है। यह खबर शायद उन्हें बुरी लगे जो दिन रात न्यूज़ चैनल में हो रही घमासान को पसंद करते है, लेकिन जिस तरह से देश का माहौल यह खराब कर रही है इस तरह की खबरों को लाना आवश्यक हो गया है।  राजीव त्यागी जी को दिल का दौरा पडऩे की वजह से उनके निधन की खबर बताई जा रही है लेकिन यह हृदयघात अकस्मात् हुआ हो इसमें संदेह है। जरूर टीवी चैनल में हुए डिबेट के व्यक्तिगत और राजनीतिक टिपण्णी दिलो दिमाग में छायी होगी जैसा की ह्रदय घात से पहले अक्सर ह्रदयघात के रोगियों में देखी जाती है।

Read

www.humsabkiawaaz.com

mo. 9827666648

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *